30 अगस्त 2009

पत्रकार की क्या हैसियत जो मुझसे बात करे


प्राक्टर ने कहा-छात्रों को मुर्गा बनाना हमारे नियम में
अम्बरीश कुमार
पूर्व का आक्सफोर्ड कहे जने वाले इलाहाबाद विश्वविद्यालय में अब छात्रों को मुर्गा बनाकर दंड बैठक करवाने की नई प्रथा शुरू हो गई है। यह काम कोई सीनियर छात्र नहीं बल्कि विश्वविद्यालय के प्राक्टर के निर्देश पर अंजाम हो रहा है। २८ अगस्त को यहां के प्राक्टर ने कुछ छात्रों को परिचय पत्र न होने की वजह से पहले कमरे में बंद रखा और बाद में परिसर में उन्हें मुर्गा बनवाकर दंड बैठक लगवाई। एक छात्र जिसके घुटने में चोट थी, उसे जमीन पर लिटा कर जमीन चाटने को कहा गया। इस सब के बाद इलाहाबाद के मानवाधिकार संगठन और जनसंगठन के लोग जब सक्रिय हुए तो मीडिया ने इस मामले में जनकारी लेने की कोशिश की। जनसत्ता के इलाहाबाद स्थित संवाददाता राघवेन्द्र प्रताप सिंह ने जब प्राक्टर से बात की तो प्राक्टर जटाशंकर त्रिपाठी ने कहा-छात्रों को विश्वविद्यालय परिसर में मुर्गा बनाना हमारे नियम कायदों में आता है। गौरतलब है कि इलाहाबाद विश्वविद्यालय केन्द्रीय विश्वविद्यालय है और यहां का माहौल अन्य विश्वविद्यालयों के मुकाबले काफी बेहतर माना जता है। इस विश्वविद्यालय ने देश को दजर्नों राजनेता, बुद्धिजीवी, पत्रकार और वकील दिए हैं। यहां पर छात्र आंदोलनों की एक लंबी परंपरा रही है और लोकतांत्रिक हक के लिए यहां के छात्र कई बार सड़क पर उतर चुके हैं। ऐसे में प्राक्टर का यह व्यवहार सभी के लिए चौकाने वाला था। इसके बाद जब संवाददाता ने कुलपति प्रोफेसर आर जी हष्रे से इस बारे में बातचीत करनी चाही तो पहले तो उन्होंने इस तरह की घटना से ही इंकार कर दिया। उन्हें जब ब्योरा दिया गया तो उत्तेजित होकर बोले-किसी पत्रकार की क्या हैसियत जो मुङासे बात करे। मैं राज्यपाल का प्रतिनिधि हूं और तुम्हारे खिलाफ एफआईआर भी करा सकता हूं। गौरतलब है कि इस विश्वविद्यालय के कुलपति राज्यपाल नहीं बल्कि राष्ट्रपति के नुमाईंदे होते हैं। इसके बाद कर्नलगंज थाने में राघवेन्द्र प्रताप सिंह के खिलाफ प्राक्टर की तरफ से मामला भी दर्ज करा दिया गया। इस मुद्दे को लेकर इलाहाबाद और लखनऊ दोनों जगह मीडिया और मानवाधिकार संगठनों ने तीखा विरोध किया है। इंडियन फेडरेशन आफ वर्किग जर्नलिस्ट ने इस घटना को दुर्भाग्यपूर्ण बताते हुए प्राक्टर के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने की मांग की है। लखनऊ श्रमजीवी पत्रकार यूनियन के अध्यक्ष सिद्धार्थ कल्हंस ने कहा-यह विश्वविद्यालय प्रशासन की तानाशाही है। विश्वविद्यालय के प्राक्टर ने एक तरफ अमानवीय तरीके से छात्रों को परेशान किया और बाद में पत्रकार को फर्जी मामले में फसाने की कोशिश की है। यह मामला अगर तुरंत वापस नहीं लिया जता तो हम इसके खिलाफ सड़कों पर उतरने को बाध्य होंगे। दूसरी तरफ इलाहाबाद विश्वविद्यालय छात्रसंघ के पूर्व अध्यक्ष केके राय और लाल बहादुर सिंह ने इसे अभिव्यक्ति की आजदी पर हमला बताया है। और इस मामले में विश्वविद्यालय प्रशासन के दोषी अधिकारी के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है। जबकि पीपुल्स यूनियन फार सिविल लिबर्टीज ने भुक्तभोगी छात्रों और प्रत्यक्षदर्शियों ने मिलकर उनके बयान की सीडी बनाई है। जिसे वह केन्द्रीय मानव संसाधन विकास मंत्रालय, मानवाधिकार आयोग और यूजीसी के सामने पेश करेगा। पीयूसीएल के प्रदेश संगठन सचिव शाहनवाज आलम ने कहा-जनसत्ता के संवाददाता पर से तत्काल मुकदमा वापस किया जए नहीं तो पीयूसीएल और अन्य जनसंगठन मिलकर इसे अदालत में चुनौती देंगे। शाहनवाज के मुताबिक इलाहाबाद श्ििद्यालय के पूर्व छात्र हिमांशु राय जिन्होंने इसी साल स्नातक की परीक्षा पास की है, वे शुक्रवार को बारह बजे माइग्रेशन निकलवाने विश्वविद्यालय आए थे। हिमांशु जैसे ही माइग्रेसन फार्म लेने काउंटर पर पहुंचे इसी बीच उसके साथ पत्राचार माध्यम से एमए की जनकारी लेने श्ििद्यालय आए धनंजय को कुलानुशासक जटाशंकर त्रिपाठी के साथ रहने ाले सुरक्षाकर्मियों ने उठाकर बगल में खड़ी टेरा गाड़ी में ठूंस दिया जहां पहले से ही कुछ छात्र बंधक बने हुए थे। इसके बाद उन सभी छात्रों को गाड़ी से कुलानुशासक कार्यालय ले जया गया। जहां उन सभी को दो घंटों तक बंधक बनाये रखा गया। इस बीच सुरक्षाकर्मी उन्हें गालियां देते हुए लगातार धमका रहे थे कि जेल भेज दिया जयेगा। उसके बाद उन्हें र्साजनिक स्थान पर सज दी गयी।
साभार विरोध

1 टिप्पणी:

Suman ने कहा…

bad herkat hai.

अपना समय