11 नवंबर 2009

पुलिस ने चार युवकों को उठाया, मुठभेड़ में मारने की आशंका

- पीयूसीएल ने उठाया सवाल


अध्यक्ष
राश्ट्ीय मानवाधिकार आयोग,
नई दिल्ली


महोदय,

उत्तर प्रदेश पुलिस नक्सलवाद के नाम पर फर्जी मुठभेड़ में कुछ युवकों की हत्या की फिराक में है। पुलिस ने सोमवार को ही सोनभद्र के चोपन इलाके में सीपीआई माओवादी के कथित एरिया कमांडर कमलेश चौधरी को मुठभेड़ में मार गिराने का दावा किया था। हालंकि पीपल्स यूनियन फाॅर सिविल लिबर्टीज़ (पीयूसीएल) ने जब इस मामले की तह में जाने की कोषिश की तो पता चला कि कमलेश चौधरी को बिहार पुलिस ने 8 नवम्बर को उनके गृह जिले बिहार के रोहतास से उठाया था। यह पूरी कार्रवाई रोहतास के पुलिस अधीक्षक विकास वैभव की देखरेख में हुई। जिसे बाद में उत्तर प्रदेश पुलिस को सौंप दिया गया। पुलिस ने कमलेश चैधरी से एक दिन पूछताछ की और बाद में 9 नवम्बर को चोपन के जंगलों में उसे मुठभेड़ में मारने की कहानी पेश कर दी।
पीयूसीएल ने अपनी प्रारम्भिक जांच में यह भी पाया है कि कमलेश चौधरी के साथ रोहतास से चार अन्य लड़कों को भी उठाया गया है। जिन्हें अभी तक न तो बिहार पुलिस और न ही उत्तर प्रदेश पुलिस ने किसी कोर्ट में पेश किया। संगठन को इसमें से दो लड़कों के नाम पता चले हैं।
1 -
मोतीलाल खरवार
ग्राम - भरतपुरा
पोस्ट- चिनारी
जिला - रोहतास, बिहार
2-
कमेष्वर यादव
ग्राम - भौनासपुर
पोस्ट - गड़वा
झारखण्ड
दो अन्य लड़के भी रोहतास जिले के मलहीपुर गांव के रहने वाले हैं। इनका नाम अभी तक पता नहीं चल सका है। संगठन को यह आशका है कि पुलिस इन्हें भी फर्जी मुठभेड़ में मारने की फिराक में है।
अतः आप से निवेदन है कि पुलिस को लोकतंत्र व भारतीय संविधान के अनुरूप कार्य करने के लिए निर्देषित करें और इन चार लड़कों के बारे में उनसे जानकारी मांगी जाए। हम उम्मीद करते हैं कि लोकतंत्र को बचाए रखने के लिए आप पुलिस को इन सभी लड़कों को जल्द से जल्द अदालत में पेश करने व कानून के मुताबिक कार्य करने के लिए बाध्य करेंगे। पीयूसीएल कमलेश चौधरी मुठभेड़ कांड को संदेहास्पद मानते हुए इसके निश्पक्ष जांच की भी मांग करती है।

निवेदक -

चितरंजन सिंह, विकास शाक्य, राजीव यादव, शाहनवाज आलम, बलवंत यादव, विजय प्रताप, ऋशि कुमार सिंह
पीपल्स यूनियन फाॅर सिविल लिबर्टीज़ (पीयूसीएल),उत्तर प्रदेश

______________________________________

आप सभी प्रबुद्ध नागरिक समाज, पत्रकार बंधुओं, सामाजिक संगठनों और कार्यकर्ताओ से अपील है की इन चार युवकों को उठाये जाने के बारे में रोहतास (बिहार) के पुलिस अधीक्षक और डीआईजी से बात करे.

रोशन विकास वैभव
पुलिस अधीक्षक
09431822978

ए जी अम्बेडकर
डीआईजी
09431822936

1 टिप्पणी:

Suman ने कहा…

thik hai kuch kiya jaiga.

अपना समय